Crypto Casino Sydney update

  1. Hvilke Websteder Har Den Højeste Gennemsigtighed I Mustang Gold-Spillet: What is Wolf Moon pokies Game Design.
  2. What Additional Information Should I Know Before Playing Ashoka - You can indeed make a nice profit with bonuses such as BetMGMs, but youll need to jump through a few hoops before you can bank it.
  3. Le Casino Rise Of Ra Est Fair-Play: They can play in a myriad of ways whether playing traditionally with two bigs and they can play small ball with the best of them.

Free spins on lephrcans

Tutte Le Informazioni Sul Casinò Lion Gems Hold And Win
They have kept relatively simple throughout the years, keeping available tables to average to play poker.
Πώς Μπορώ Να Κάνω Ανάληψη Χρημάτων Από Το Παιχνίδι Excalibur Unleashed;
You want your winnings to be paid out on time and fairly, and all your bets to be adjudged in an honest and above-board way.
Repeat offenders could land themselves even bigger fines and community service.

Latest winnings at the online cryptocurrency casino

Existem Bônus De Boas-Vindas Disponíveis Para Jogar Benji Killed In Vegas Online?
However, Evolution remains a cut above the rest.
Beste Zeiten Um Das Book Of Oasis-Casinospiel Zu Spielen
But how do you use a risk-free first bet.
I Vantaggi Dei Casinò Online Vs Casinò Terrestri Per Diamonds Party

Connect with us

स्वास्थ

बिहार में फाइलेरिया, एल्बेंडाजोल की दवा खाने से 150 बच्चे बीमार, मची अफरातफरी

avatar

Published

on

गोपालगंज. बिहार के गोपालगंज से बड़ी खबर सामने आ रही है. यहां फाइलेरिया और कीड़ी की एल्बेंडाजोल दवा खाने से तीन स्कूलों के 150 से ज्यादा बच्चे बीमार हो गये हैं.

बीमार बच्चे पंचदेवरी प्रखंड के कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय, मध्य विद्यालय भठवा और मध्य विद्यालय बगहवा के बताये जा रहें हैं. एंबुलेंस और निजी वाहनों से सभी बीमार बच्चों को पंचदेवरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया है, जहां डॉक्टरों की टीम इलाज में जुटी हुई है.

हालांकि यहां के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ उपेंद्र प्रसाद ने सभी बीमार बच्चों की हालत खतरे से बाहर बतायी है. बता दें कि स्वास्थ्य विभाग की ओर से 10 फरवरी से 27 फरवरी तक के लिए फाइलेरिया अभियान और कीडी की दवा एल्बेंडाजोल खिलाने का अभियान शुरू किया गया है. आशा वर्करों को स्कूलों में जाकर बच्चाें को दवा खिलानी है, लेकिन शिक्षकों के द्वारा ही बच्चों को दवा खिलायी जा रही थी.

यह भी पढ़ें   मेहंदी रचे हाथ फ्लोरल जंपसूट और पिंक चूड़ा…शादी के बाद पति जैकी संग इस अंदाज में दिखीं न्यूली ब्राइड रकुल प्रीत सिंह

नियम और जागरूकता के अभाव में बीमार हुए बच्चे

घटना को लेकर डॉक्टरों का कहना है कि दवा खिलाने के नियम और जागरूकता के अभाव में बच्चे बीमार हुए. बच्चों के खाना खाने के बाद ही दवा देनी है.फिलहाल जिला मुख्यालय से भी स्वास्थ्य टीम को मौके के लिए रवाना किया गया है. वहीं, दूसरी तरफ एक-एक कर तीन स्कूलों में बच्चों के बीमार होने से अभिभावक आक्रोशित हैं और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के प्रति नाराजगी जताकर जांच कराने की मांग कर रहें हैं.

भागलपुर में भी बीमार हुए बच्चे

इधर, स्थिति को देखते हुए कटेया थाने की पुलिस और थानाध्यक्ष अभिषेक कुमार, बीडीओ राहुल रंजन, स्वास्थ्य प्रबंधक कुमार गौरव पहुंचकर मामले की जांच में जुटे हुए हैं. मिली जानकारी के अनुसार बिहार के भागलपुर जिले में भी फाइलेरिया की दवा खाने से बच्चों के बीमार होने का मामला सामने आया है.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

स्वास्थ

चीन के बच्चों में फैल रही रहस्यमयी बीमारी, भारत सरकार ने जारी की एडवाइजरी, मॉक ड्रिल के आदेश

avatar

Published

on

हाइलाइट्स
* चिकित्सा विभाग ने जारी किया अलर्ट
* चीन के बच्चों में फैल रही बीमारी को लेकर दिए निर्देश
* सभी अस्पतालों में ऑक्सीजन और दवाइयों की व्यवस्था करने का आदेश

जयपुर : चीन के बच्चों में फैल रही रहस्यमयी बीमारी को लेकर राजस्थान के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग ने अलर्ट जारी किया है. बच्चों में निमोनिया और इन्फ्लूएंजा के मामले बढ़ने पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से राज्यों को एडवाइजरी भेजी गई है. इसके अलावा राज्य के सभी अस्पतालों में मॉक ड्रिल व निरीक्षण करवाने की गाइडलाइन भी जारी की गई है. हालांकि प्रदेश में अभी तक इस बीमारी का कोई भी केस सामने नहीं आया है.

यह भी पढ़ें   मेहंदी रचे हाथ फ्लोरल जंपसूट और पिंक चूड़ा…शादी के बाद पति जैकी संग इस अंदाज में दिखीं न्यूली ब्राइड रकुल प्रीत सिंह

प्रदेश के सबसे बड़े एसएमएस अस्पताल के अधीक्षक अचल शर्मा ने बताया कि चीन में इनफ्लुएंजा फैल रहा है जिसे हम बुखार, खांसी, जुकाम कहते हैं. इस प्रकार का वायरस जो खास तौर से वहां के बच्चों में ज्यादा देखने को मिल रहा है. इसमें खांसी, जुकाम, बुखार की शिकायत लेकर मरीज अस्पतालों में पहुंच रहे हैं. इस दिशा में भारत सरकार और राज्य स्तर पर भी गाइडलाइन जारी की गई है, जिसको लेकर एसएमएस अस्पताल पूरी तरीके से तैयार है. हमारे पास विशेषज्ञों की पूरी टीम है एवं बेड की पर्याप्त व्यवस्था है. यदि किसी व्यक्ति को खांसी, जुकाम या बुखार है तो तुरंत उपचार लें और अन्य व्यक्तियों से दूर रहें.

यह भी पढ़ें   Mahoba News: महोबा में दूसरे विवाह पर पहली पत्नी ने काटा हंगामा, दूल्हे ने कोर्ट का आदेश दिखा रचाई शादी

Continue Reading

देश

ब्रेस्ट कैंसर के मरीजों को बड़ी राहत, सरकार फ्री में मुहैया कराएगी 4.2 लाख की दवा

avatar

Published

on

स्तन कैंसर से जूझ रही मरीजों के लिए राहत की खबर. अब गोवा मेडिकल कॉलेज, बंबोलिम में स्तन कैंसर का इलाज कराने वाले मरीजों को फिक्स्ड-डोज वाली ‘पर्टुजुमाब-ट्रास्टुजुमाब’ नाम की दवा मुफ्त में मिलेगी.

वैसे इस दवा की कीमत 4.2 लाख रुपये है.

स्वास्थ्य मंत्री विश्वजित राणे ने बताया कि गोवा देश का पहला राज्य है, जो इस दवा को अपने इलाज प्रोटोकॉल में शामिल कर रहा है और मरीजों को इसे मुफ्त दे रहा है. इस दवा को रविवार को विश्व कैंसर दिवस के मौके पर जीएमसी में लॉन्च किया गया. यह इंजेक्टेबल दवा HER2-पॉजिटिव स्तन कैंसर रोगियों को पारंपरिक घंटे भर चलने वाले इंट्रावेनस ड्रिप के विकल्प के रूप में दी जाती है. यह ना सिर्फ मरीजों को आराम देता है, बल्कि दवा को शरीर में पहुंचाने में भी ज्यादा कारगर है.

स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि यह दवा ‘फेसगो’ ब्रांड नाम से रोश हेल्थ केयर द्वारा पेश की गई है. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार जीएमसी में पात्र मरीजों को यह दवा मुफ्त में उपलब्ध कराएगी. रविवार को स्वास्थ्य मंत्री ने डीन डॉ. शिवानंद बंदेकर और अन्य वरिष्ठ डॉक्टरों की मौजूदगी में ऑन्कोलॉजी विभाग की प्रमुख डॉ. अनुपमा बोरकर के देखरेख में एक मरीज को यह दवा दी.

यह भी पढ़ें   CG Breaking: छत्तीसगढ़ में आज मिले कोरोना के 24 नए पॉजिटिव मरीज, 36 हुए स्वस्थ

विश्वजित राणे ने कहा कि हमें जीएमसी में पर्टुजुमाब-ट्रास्टुजुमाब फिक्स्ड ड्रग कॉम्बिनेशन शुरू करने की घोषणा करते हुए गर्व है, जो स्तन कैंसर के इलाज में एक महत्वपूर्ण सफलता है. यह नया तरीका न केवल मरीजों को आराम देता है बल्कि कैंसर की देखभाल को आगे बढ़ाने की हमारे वादे को भी दर्शाता है. यह अद्भुत दवा अब मरीजों के लिए मुफ्त उपलब्ध है, यह भारत में एक अनूठी पहल है और बीमारी को ठीक करने और मरीजों को शुरुआती दौर में रोकने का अवसर देती है, जिससे जान बचती है.

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि यह दवा स्तन कैंसर का शुरुआती इलाज कर सकती है. नए और एडवांस उपचारों को आगे बढ़ाने के लिए हमारी मजबूत वादे सुनिश्चित करती है कि हर कोई लेटेस्ट मेडिकल सॉल्यूशन से लाभ उठा सकता है. यह हमारे स्तन कैंसर से लड़ने के तरीके में एक बड़ा बदलाव है, जो पूरे देश में महिलाओं के लिए आशा और उपचार का एक नया युग ला रहा है. राणे ने कहा कि इस पहल से सालाना लगभग 12 मरीजों को लाभ होगा.

यह भी पढ़ें   मलेरिया मुक्त छत्तीसगढ़ अभियान का आठवां चरण 15 जून से, राज्य स्तरीय कार्यशाला में अधिकारियों को दिया गया प्रशिक्षण

डॉ. बोरकर ने कहा कि यह विशेष दवा स्तन कैंसर से नव-डायग्नोस मरीजों को सर्जरी से पहले दी जाती है. उन्होंने कहा कि यह कॉम्बिनेशन न केवल स्तन कैंसर के उपचार के प्रभाव में योगदान देगा बल्कि मरीजों के लिए मेडिकल प्रक्रिया को भी सरल बनाएगा.

Continue Reading

देश

ब्रेस्ट कैंसर के मरीजों को बड़ी राहत, इस राज्य की सरकार फ्री में मुहैया कराएगी 4.2 लाख की दवा

avatar

Published

on

स्तन कैंसर से जूझ रही मरीजों के लिए राहत की खबर. अब गोवा मेडिकल कॉलेज, बंबोलिम में स्तन कैंसर का इलाज कराने वाले मरीजों को फिक्स्ड-डोज वाली ‘पर्टुजुमाब-ट्रास्टुजुमाब’ नाम की दवा मुफ्त में मिलेगी.

वैसे इस दवा की कीमत 4.2 लाख रुपये है.

स्वास्थ्य मंत्री विश्वजित राणे ने बताया कि गोवा देश का पहला राज्य है, जो इस दवा को अपने इलाज प्रोटोकॉल में शामिल कर रहा है और मरीजों को इसे मुफ्त दे रहा है. इस दवा को रविवार को विश्व कैंसर दिवस के मौके पर जीएमसी में लॉन्च किया गया. यह इंजेक्टेबल दवा HER2-पॉजिटिव स्तन कैंसर रोगियों को पारंपरिक घंटे भर चलने वाले इंट्रावेनस ड्रिप के विकल्प के रूप में दी जाती है. यह ना सिर्फ मरीजों को आराम देता है, बल्कि दवा को शरीर में पहुंचाने में भी ज्यादा कारगर है.

स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि यह दवा ‘फेसगो’ ब्रांड नाम से रोश हेल्थ केयर द्वारा पेश की गई है. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार जीएमसी में पात्र मरीजों को यह दवा मुफ्त में उपलब्ध कराएगी. रविवार को स्वास्थ्य मंत्री ने डीन डॉ. शिवानंद बंदेकर और अन्य वरिष्ठ डॉक्टरों की मौजूदगी में ऑन्कोलॉजी विभाग की प्रमुख डॉ. अनुपमा बोरकर के देखरेख में एक मरीज को यह दवा दी.

यह भी पढ़ें   CG Corona Update: छत्तीसगढ़ में आज मिले कोरोना के 38 नए मरीज, 36 हुए स्वस्थ

विश्वजित राणे ने कहा कि हमें जीएमसी में पर्टुजुमाब-ट्रास्टुजुमाब फिक्स्ड ड्रग कॉम्बिनेशन शुरू करने की घोषणा करते हुए गर्व है, जो स्तन कैंसर के इलाज में एक महत्वपूर्ण सफलता है. यह नया तरीका न केवल मरीजों को आराम देता है बल्कि कैंसर की देखभाल को आगे बढ़ाने की हमारे वादे को भी दर्शाता है. यह अद्भुत दवा अब मरीजों के लिए मुफ्त उपलब्ध है, यह भारत में एक अनूठी पहल है और बीमारी को ठीक करने और मरीजों को शुरुआती दौर में रोकने का अवसर देती है, जिससे जान बचती है.

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि यह दवा स्तन कैंसर का शुरुआती इलाज कर सकती है. नए और एडवांस उपचारों को आगे बढ़ाने के लिए हमारी मजबूत वादे सुनिश्चित करती है कि हर कोई लेटेस्ट मेडिकल सॉल्यूशन से लाभ उठा सकता है. यह हमारे स्तन कैंसर से लड़ने के तरीके में एक बड़ा बदलाव है, जो पूरे देश में महिलाओं के लिए आशा और उपचार का एक नया युग ला रहा है. राणे ने कहा कि इस पहल से सालाना लगभग 12 मरीजों को लाभ होगा.

यह भी पढ़ें   Bilaspur: पुटू की सब्जी खाने से एक ही परिवार के 5 लोग बीमार, हॉस्पिटल में कराया गया भर्ती

डॉ. बोरकर ने कहा कि यह विशेष दवा स्तन कैंसर से नव-डायग्नोस मरीजों को सर्जरी से पहले दी जाती है. उन्होंने कहा कि यह कॉम्बिनेशन न केवल स्तन कैंसर के उपचार के प्रभाव में योगदान देगा बल्कि मरीजों के लिए मेडिकल प्रक्रिया को भी सरल बनाएगा.

Continue Reading
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

Trending