Online gambling google play

  1. Kan Jeg Spille Ashoka I Mit Land: Let's take a look at what we mean by variance.
  2. Spielen Sie Book Of Rampage Mit Hohen Einsätzen - In Pennsylvania, IGT looks to become a major player, and has inked partnerships with both Penn National and Valley Forge to provide not only poker software, but a full-fledged online casino platform.
  3. Giganimals Gigablox Játék Kaszinó Szórakozás: On the other hand, Toby had the queen of diamonds and ten of diamonds.

888 Poker promotion code dollar 10

¿Qué Tipo De Experiencia Móvil Ofrece El Juego Hand Of Anubis
Both the FAQ and Email options in the Cashier along with other Contact Us buttons or links on the website redirect the player to the Support Center, which can be confusing.
Gioco Di Aviatori Online Sul Cellulare
Didn't have any problems with depositing - but be be aware about the deposit welcome bonus - you have to play a lot for any hope of cashing it out.
When talking about more modern online pokies, whether they are for real money or free, it is very common to find pokies inspired by the latest movies that are released in cinemas, comics or TV series, for example online casino pokies developed by Playtech and based on Marvel characters.

Spirit roulette ritual

Como Faço Para Fazer Uma Aposta No Jogo First Person Dream Catcher?
One of the ways we can assure that is that we show you what different operators have in terms of promotions.
Blackjack-Varianten Des Extra Chilli Epic Spinspiels
The lowest paying icons are 10, Jack and the Queen symbols, although the King and Ace symbols arent far behind in terms of small payouts.
Automat Red Diamond Zadarmo

Connect with us

छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ की गर्भवती महिलाओं में बढ़ रहा है डायबिटीज का खतरा सिम्स में हुआ शोध

avatar

Published

on

बिलासपुर, 13 जनवरी/ बिलासपुर सहित राज्य में महिलाओं में गर्भावस्था के दौरान डायबिटीज का खतरा बढ़ रहा है।छत्तीसगढ़ आयुर्विज्ञान संस्थान (सिम्स) बिलासपुर के बायोकेमिस्ट्री विभाग और स्त्री रोग विभाग के संयुक्त शोध में यह तथ्य प्रकाश में आया है।

आइये जाने क्या होता है गर्भावस्था मधुमेह चिकित्सकों की भाषा में इसे जेस्टेशनल डायबिटीज मेलिटस के नाम से जाना जाता है। गर्भावस्था के आरम्भ अथवा मध्य में ग्लूकोस का मेटाबोलिज्म सम्पूर्ण रूप से नहीं हो पाता है। इस स्थिति को जेस्टेशनल ग्लूकोज़ इम्पेयरमेंट कहते हैं। यही स्थिति आगे चलकर गर्भावस्था में होने वाले डायबिटीज मेलिटस में परिवर्तित हो जाती है। मातृत्व स्वास्थ्य विभाग, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार की रिपोर्ट के अनुसार भारत में गर्भावस्था के दौरान जेस्टेशनल मधुमेह से ग्रसित स्त्रियों का प्रतिशत 10 से 14.3 प्रतिशत है, जो की वैश्विक प्रतिशत से बहुत अधिक है। सिम्स में बायोकेमिस्ट्री विभाग में हुए शोध में भी चौकाने वाले आंकड़े आये हैं।

डॉ प्रशांत निगम ने विभाग द्वारा किये गए पॉयलेट स्टडी में ही 600 महिलाओं में से 90 महिलाओं में जेस्टेशनल डायबिटीज की स्क्रीनिंग हेतु ओरल ग्लूकोस टॉलरेंस टेस्ट के परिणाम के आधार पर निर्धारित मानक से ज्यादा ग्लूकोज़ पाया गया। सिम्स आने वाली गर्भवती महिलाओं में उक्त पायलट स्टडी के अनुसार 15% महिलायें जेस्टेशनल डायबिटीज से पीड़ित पाई गईं हैं, व्यापक शोध करने पर यह आंकड़ा कम या ज्यादा हो सकता है।

यह भी पढ़ें   भूपेश कैबिनेट की अहम बैठक आज, संविदाकर्मियों के नियमितीकरण समेत 10 से ज्यादा प्रस्तावों पर लग सकती है मुहर

स्त्री रोग विभाग की विभागाध्यक्ष डॉ संगीता जोगी ने बताया की यदि जेस्टेशनल डायबिटीज का इलाज़ न किया जाए तो माँ एवं बच्चे दोनों को खतरा हो सकता है। इसीलिए सभी गर्भवती स्त्रियों को अनिवार्यतः यह जांच करानी चाहिए। यह जांच बहुत सरल एवं सुगम है। सिम्स में यह जांच नियमित रूप से की जा रही है। जेस्टेशनल डायबिटीज का उपचार न कराने पर जहाँ माँ के गर्भाशय में असामान्य रूप से अधिक अम्नियोटिक द्रव बन सकता है।वहीँ प्री-इक्लैम्प्सिया, प्रदीर्घ अथवा बाधित प्रसव (प्रोलोंग अथवा ऑब्स्ट्रक्टेड प्रसव) या पोस्टपार्टम हेमोरेज जैसी विभिन्न घातक स्थितियों का सामना करना पड़ सकता है। यही नहीं गर्भस्थ शिशु का गर्भपात, गर्भावस्था में मृत्यु, जन्मजात विकृति, श्वसन सम्बन्धी कारकों से पीड़ित हो सकता है। नवजात शिशु को जन्म के उपरान्त भी खतरा रहता है।

यह भी पढ़ें   छत्तीसगढ़ में फिर बढ़ रहे कोरोना के मामले

गर्भावस्था मधुमेह के प्रमुख कारण एवं निदा

जेस्टेशनल डायबिटीज के कई कारण हो सकते हैं, जिनमें मुख्य कारण अनुवांशिक कारक, अधिक उम्र में गर्भाधान करना, मोटापा, पोषक आहार का सेवन न करना, निष्क्रिय जीवन शैली, पॉलीसिस्टिक ओवेरी सिंड्रोम, गर्भावस्था में उचित देखभाल न करना एवं तनाव सम्मिलित है। साथ ही सही समय पर जांच न कराना भी एक प्रमुख कारण है।

जाँच उपरान्त उपचार हेतु किसी भी एंटीनेटल केयर सेण्टर अथवा चिकित्सा महाविद्यालय में अवश्य जाएँ। स्त्रीरोग विभाग, सिम्स में भी उपचार हेतु समस्त सुविधाएँ उपलब्ध हैं। अधिष्ठाता सिम्स डॉ के के सहारे ने बायोकेमिस्ट्री एवं स्त्रीरोग विभाग के चिकित्सकों को इस पायलेट स्टडी के लिए शुभकामनायें दी एवं विस्तृत शोध करने हेतु प्रेरित किया।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

छत्तीसगढ़

मानसिक रूप से कमजोर महिला को मस्तूरी पुलिस द्वारा मानसिक अस्पताल में कराया गया भर्ती.

avatar

Published

on

प्रेसनोट : थाना मस्तूरी

दिनांक 26.02.24 की रात्रि में डायल 112 को सूचना मिली कि एक 25-30 साल की एक महिला मस्तूरी बस स्टैंड के आसपास में इधर- उधर भटक रही है व अपना नाम पता बता नही पा रही है मानसिक रूप से कमजोर होने की जानकारी मिलने पर उसके साथ कुछ घटना दुर्घटना होने की आशंका को ध्यान में रखकर मस्तूरी पुलिस द्वारा संवेदनशीलता का परिचय देते हुए उस महिला को सखी सेंटर बिलासपुर के माध्यम से मानसिक अस्पताल सेंदरी में भर्ती कराया गया है जहाँ पर उस महिला का उपचार किया जा रहा है। पीड़ित महिला अपने परिजनों के सम्बन्ध में कुछ बता नही पा रही है अभी तक उसके परिजनों के विषय मे कोई भी जानकारी नही मिल पाई है।उक्त महिला के परिजनों के सम्बंध में कोई भी जानकारी मिलने पर थाना मस्तूरी को सूचित करने का कष्ट करें।
मोबाइल नम्बर-:
थाना प्रभारी – 9479193040
पुलिस कंट्रोल रूम 9479193099

यह भी पढ़ें   CG Weather: अगले दो दिनों तक शीतलहरी बरकरार, मौसम विभाग किया अलर्ट जारी
Continue Reading

छत्तीसगढ़

कलेक्टर ने जनदर्शन में सुनी आम लोगों की समस्याएं

avatar

Published

on

बिलासपुर, 26 फरवरी 2024/कलेक्टर श्री अवनीश शरण ने आज जिला कार्यालय में आयोजित साप्ताहिक जनदर्शन में पहंुचे ग्रामीणों एवं आमजनों से मुलाकात कर उनकी समस्याएं सुनी और संबंधित अधिकारियों को जल्द निराकरण के निर्देश दिए। आज लगभग सौ से ज्यादा लोगों ने कलेक्टर से मुलाकात कर निजी एवं सामुदायिक मांग एवं समस्याओं से संबंधित आवेदन दिए।

जनदर्शन में कोटा ब्लाॅक के ग्राम पंचायत परसापानी की सरपंच श्रीमती लैला कोरवा ने प्राथमिक शाला बहरी झरिया एवं पूर्व माध्यमिक शाला परसापानी में शौचालय निर्माण कराने की मांग की। मस्तूरी ब्लाॅक के ग्राम लोहर्सी निवासी सेवानिवृत्त श्री मनहरण लाल साहू ने पेंशन प्रकरण के निराकरण करने और अंतिम राहत पेंशन एवं उपादान राशि जारी करने कलेक्टर से गुहार लगाई। उन्होंने बताया कि सहायक आंतरिक लेखा परीक्षण एवं करारोपण अधिकारी के पद पर मस्तूरी ब्लाॅक में कार्य करते हुए 31 जनवरी 2023 को सेवानिवृत्त हुआ।

यह भी पढ़ें   छत्तीसगढ़ में फिर बढ़ रहे कोरोना के मामले

लेकिन आवेदन देने के उपरांत भी अभी तक राशि नहीं मिल पाई है। कलेक्टर ने सीईओ मस्तुरी के मामले को सौंपते हुए निराकरण करने के निर्देश दिए। पचपेड़ी तहसील के ग्राम भुरकुंडा निवासी श्री मनंशाराम ने किसान पुस्तिका बनवाने आवेदन दिया। खैरखुण्डी गांव के निवासी श्री मनमीत कुमार माथुर ने रोजगार सहायक द्वारा गलत तरीके से जाॅब कार्ड से नाम काटने की शिकायत की। कलेक्टर ने इस मामले को जिला पंचायत सीईओ को सौंपा।

जगमल चैक निवासी श्रीमती सीता देवी यादव ने प्रधानमंत्री आवास योजना के लिए आवेदन दिया। ग्राम कड़ार निवासी श्री सुखीराम केंवट ने पशु शेड निर्माण की राशि स्वीकृति करने के उपरांत भी शेड नहीं बनाये जाने की शिकायत की। कलेक्टर ने संबंधित अधिकारी को मामले के निराकरण के निर्देश दिए।

Continue Reading

छत्तीसगढ़

उप मुख्यमंत्री तथा नगरीय प्रशासन मंत्री श्री अरुण साव के अनुमोदन के बाद विभाग द्वारा स्वीकृति आदेश जारी

avatar

Published

on

सरिया नगर पंचायत में मांगलिक भवन और उद्यान निर्माण के लिए 1.2 करोड़ रुपए स्वीकृत

उप मुख्यमंत्री तथा नगरीय प्रशासन मंत्री श्री अरुण साव के अनुमोदन के बाद विभाग द्वारा स्वीकृति आदेश जारी

बिलासपुर. 24 फरवरी 2024. नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग द्वारा सारंगढ़-बिलाईगढ़ जिले के सरिया नगर पंचायत में मांगलिक भवन और उद्यान के निर्माण के लिए एक करोड़ 20 लाख 13 हजार रुपए मंजूर किए गए हैं। उप मुख्यमंत्री तथा नगरीय प्रशासन एवं विकास मंत्री श्री अरुण साव के अनुमोदन के बाद दोनों कार्यों के लिए स्वीकृति आदेश जारी कर दिए गए हैं। उप मुख्यमंत्री श्री साव ने दोनों कार्यों को अच्छी गुणवत्ता के साथ समय-सीमा में पूर्ण करने के निर्देश दिए हैं।

यह भी पढ़ें   CG: 41 हजार 465 से ज्यादा युवाओं का बेरोजगारी भत्ता स्वीकृत

नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग के राज्य शहरी विकास अभिकरण द्वारा सरिया नगर पंचायत में डॉ. बी.आर. अंबेडकर सर्वसमाज मांगलिक भवन के लिए 73 लाख 73 हजार रुपए की स्वीकृति प्रदान की गई है। विभाग द्वारा सरिया में उद्यान निर्माण के लिए 46 लाख 40 हजार रुपए मंजूर किए गए हैं।

Continue Reading
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

Trending