How to beat craps in the crypto casino

  1. Quali Sono I Limiti Del Gioco Fruits Dimension Hd: At the top is a stylish gold logo as well as the current time.
  2. De Bedste Væddemål At Foretage Hos Tome Of Madness - Because this is also a low-variance game, its ideal for players looking for great bang for their buck.
  3. Vença No Fortune Tiger Com A Estratégia De James Bond: Freeze, Robin, helicopter and batmobile you can easily place yourself in the 1960s TV crime fighting super hero world.

Download slot games for

Você Pode Jogar Age Of The Gods God Of Storms De Graça Antes De Apostar Dinheiro Real?
Dragon 8's is a unique, fascinating 4 reels, and 1-row slot machine, created by talented Rubyplay development organization with 1 active payline, where winning combinations can appear.
Come Vincere In Golazo Hd Suggerimenti E Trucchi
So Keno is a pretty straightforward game that is built on a playful theme that will make you enjoy every minute.
The verification process at the end might lead you away from the casino page, however, this part takes only a few seconds and youll be back at the casino, this time, ready to start playing.

Kinds of poker players

¿Se Puede Jugar A Beauty Of Cleopatra Desde Un Smartphone
It is possible to exchange points only when you collect 200 of them.
Combien D'argent Puis-Je Gagner Sur Numero Uno En Ligne?
Or save your bankroll and register for big-money guaranteed tourneys.
Witcher Cave Için En Iyi Taktikler Nelerdir

Connect with us

छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ में सबसे पहले यहीं माता सीता ने मवई नदी में पखारे थे पांव

avatar

Published

on

मनेन्द्रगढ़-चिरमिरी-भरतपुर जिले में सीतामढ़ी हरचौका ऐसी जगह है जहाँ वनवास के दौरान प्रभु श्रीराम और माता सीता के कदम छत्तीसगढ़ में पड़े थे और यह भूमि पुण्यभूमि हो गई। मवई नदी ने माता सीता के पैर पखारे। वनवास के दौरान अपना आरंभिक समय प्रभु श्रीराम ने यहीं बिताया और माता सीता और भ्राता लक्ष्मण ने उनका साथ निभाया। माता सीता ने यहां रसोई बनाई और इस वनप्रदेश में भगवान श्रीराम की गृहस्थी बसी। भगवान श्रीराम से जुड़े इस पुण्यस्थल के बारे में स्थानीय जनश्रुतियां तो थीं लेकिन श्रद्धालुओं के लिए पर्यटन नक्शे में इस जगह की जानकारी थी।

 राम वनगमन पर्यटन परिपथ

 मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार ने रामवनगमन पर्यटन परिपथ बनाने की पहल की ताकि यहाँ आने वाले स्थानीय श्रद्धालुओं को भी जरूरी सुविधा मिल सके और देश-विदेश में बसे राम भक्त उन तक पहुंचे। अब यह सुंदर पुण्यस्थली भक्तों के लिए पूरी तरह तैयार है। इसका वैभव और इसका आध्यात्मिक महत्व अब लोगों के लिए सहज उपलब्ध है। भगवान श्रीराम और माता सीता से जुड़ी इस सुंदर पुण्य भूमि की गुफाओं में 17 कक्ष हैं। इस स्थान को हरचौका कहा जाता है और सीता की रसोई के नाम से भी लोग इसे जानते है।

यह भी पढ़ें   शराब पीकर हंगामा करना IAS को पड़ा भारी, सीएम भूपेश ने तत्काल प्रभाव से किया निलंबित
 सुंदर पुण्य भूमि की गुफाओं में 17 कक्ष

सीतामढ़ी हरचौका – भगवान राम के 14 वर्ष के वनवास काल का अधिकांश समय दण्डकारण्य में व्यतीत हुआ। वनवास काल में भगवान श्रीराम, पत्नी सीता और भाई लक्ष्मण के साथ जहां-जहां ठहरे, उनके चरण जहां पड़े, ऐसे 75 स्थानों को चिन्हांकित किया गया हैै। इनमें से प्रथम 09 स्थानों को विश्व स्तरीय पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने की शुरुआत छत्तीसगढ़ सरकार ने की है। राम वनगमन पर्यटन परिपथ परियोजना की शुरूआत मनेन्द्रगढ़-चिरमिरी-भरतपुर जिले के ‘सीतामढ़ी हरचौका’ नामक स्थान से होती है। मवई नदी के किनारे स्थित सीतामढ़ी हरचौका, दण्डकारण्य का प्रारंभिक स्थल है, जहां से वनवास काल के दौरान भगवान श्री राम का आगमन छत्तीसगढ़ की धरती पर हुआ था। सीतामढ़ी- हरचौका के पुरातात्विक महत्व को संरक्षित करने के लिए इस परिपथ के प्रमुख स्थलों का पर्यटन तीर्थ के रूप में विकास किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें   देश में हालत पस्त कर देने वाली गर्मी का दौर शुरू

शिलाखंड पर भगवान राम के पदचिन्ह

सीतामढ़ी हरचौका में विशाल शिलाखंड स्थित है, जिसे लोग भगवान राम का पद चिन्ह मानते हैं। लोक आस्था और विश्वास के कारण लोग शिलाखंड की पूजा-अर्चना करते है। प्रभु राम के पदचिन्ह का पुरातात्विक महत्व होने के कारण इस पर शोध कार्य भी जारी है।

छत्तीसगढ़ में राम लोक मानस में बसे हैं। यह सुखद संयोग है कि छत्तीसगढ़ में उनसे जुड़े अनेक स्थान हैं जो उनके प्रसंगों को रेखांकित करते हैं। वनवासी राम का सम्पूर्ण जीवन सामाजिक समरसता का प्रतीक है। भगवान राम ने वनगमन के समय हमेशा समाज के वंचित वर्ग को गले लगाया।

छत्तीसगढ़

सड़क किनारे खड़ी ट्रक से टकराई बस, एक महिला को मौत

avatar

Published

on

धरसीवां। रायपुर से लगे धरसीवां के पास एक भीषण सड़क हादसा हो गया। जानकारी के अनुसार, बिलासपुर राजमार्ग पर सांकरा से सिमगा सिक्स लाइन में तड़के सुबह जबलपुर से जीवन बस सर्विस की यात्री बस रायपुर आ रही थी। इसी बीच बस धरसीवां में सिक्स लाइन पर खड़े ट्रक में जा घुसी। हादसे में बस में आगे बैठी मंडला जिले की आदिवासी महिला राजकुमारी धुरू (37) की मौत हो गई। जबकि 7 लोग घायल बताए जा रहे हैं जिन्हें प्राथमिक उपचार के बाद रायपुर मेकाहारा रेफर किया गया है। हादसा इतना भयानक था कि बस के परखच्चे उड़ गए।

यह भी पढ़ें   बिलासपुर: पंचायत सचिव के सूने मकान में हुई चोरी, जेवर समेत कई सामान हुए गायब
Continue Reading

छत्तीसगढ़

उत्तर बस्तर कांकेर : स्वीप के नोडल अधिकारी एवं प्राचार्यों की बैठक लेकर दिये आवश्यक दिशा निर्देश

avatar

Published

on

उत्तर बस्तर कांकेर। स्वीप के नोडल अधिकारियों और कॉलेज के प्राचार्यो की बैठक लेकर कलेक्टर डॉ.प्रियंका शुक्ला ने कहा कि महाविद्यालय में अध्ययनरत 18 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के सभी युवक-युवतियों का मतदाता सूची में नाम जुड़वाना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि स्नातक स्तर के नव प्रवेश विद्यार्थियों का आयु 18 वर्ष या उससे अधिक हैं उन्हें मतदाता सूची में नाम जोड़ने के लिए शत-प्रतिशत अभियान चलाया जाएगा, जिसमें महाविद्यालय स्तर के प्रत्येक कक्षा में दो विद्यार्थी को नोडल बनाकर मतदाता सूची में नाम जोड़ने का कार्य करने के लिए निर्देशित किया गया।

यह भी पढ़ें   शराब पीकर हंगामा करना IAS को पड़ा भारी, सीएम भूपेश ने तत्काल प्रभाव से किया निलंबित

उन्होंने कहा कि राशन दुकान, पंचायत भवनों और खाद गोदामों में पांपलेट चस्पा करें, जिससे शत प्रतिशत लोगों का नाम जोड़ा जा सके। कलेक्टर डॉ.प्रियंका शुक्ला ने जिले के सभी महाविद्यालयों से उपस्थित प्राचार्यो को निर्देशित करते हुए कहा कि विद्यार्थियों का रेडक्रास में पंजीयन कराएं ताकि रेडक्रास से मिलने वाली सुविधाएं उपलब्ध हो सकते।

बैठक में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी सुमित अग्रवाल, एसडीएम चारामा राकेश गोलछा, भानुप्रतापपुर प्रतीक जैन, कांकेर धनंजय नेताम, अंतागढ़  विश्वास कुमार, पखांजूर मनीष साहू, जिला शिक्षा अधिकारी भुवन जैन सहित सभी कॉलेजों के प्राचार्य उपस्थित थे।

Continue Reading

छत्तीसगढ़

पुलिस विभाग में बड़ा फेरबदल, आदेश जारी

avatar

Published

on

रायपुर। छत्तीसगढ़ में इन दिनों तबादलों का दौर जारी हैं। अब पुलिस विभाग में फेरबदल किया गया है। पुलिस मुख्यालय नवा रायपुर से बड़े पैमाने पर निरीक्षकों का तबादला किया गया है।

पुलिस स्थापना बोर्ड के फैसले के मुताबिक ये ट्रांसफर किए गए हैं। जिनमें 67 निरीक्षक, और 17 उप निरीक्षकों का तबादला किया गया है।

यह भी पढ़ें   बिलासपुर: पंचायत सचिव के सूने मकान में हुई चोरी, जेवर समेत कई सामान हुए गायब
Continue Reading
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

Trending